X Close
X
8299323179

जब सोमनाथ से आयोध्या तक लालकृष्ण आडवाणी ने निकाली थी रथयात्रा तो…!


Lucknow:

अयोध्या रामजन्म भूमि 1949 से 1986 तक, यानि, की करीब 37 वर्षों में राम जन्मभूमि का मामला जो जस का तस था, वह केवल 3 सालों में शिलान्यास तक पहुंच गया। बता दे कि आंदोलन की कमान संभाल रहे संघ परिवार के संगठन विहिप का आत्मविश्वास पूरे उफान पर था। संघ परिवार को लगने लगा था कि राम मंदिर निर्माण का स्वप्न भविष्य में साकार हो सकता है। अब तो जनता ने भी इसे एक महत्वपूर्ण मुद्दे के रूप में स्वीकार कर लिया था। लिहाजा तैयारियां और जोर पकड़ने लगीं। वहीं साधु-संतों के साथ मिलकर विहिप ने कई कार्यक्रमों की घोषणा की।

ये भी पढ़े: अयोध्या मामला: सात दिन के भीतर आ सकता है फैसला, तैयारियों में जुटी सरकार

आपको बता दें कि शास्त्रीय संगीत के अच्छे जानकार विहिप के अशोक सिंहल ने इस पूरे मामले में हिंदुओं के सम्मान का सुर मिला दिया था। राम जन्मभूमि मुद्दे पर पूछे गए एक सवाल कि अयोध्या में अगर एक मंदिर नहीं बनेगा, तो क्या हो जाएगा? – पर अशोक सिंहल ने कहा- अगर अयोध्या में जन्मभूमि पर राम का मंदिर नहीं बनेगा, तो इस देश में हिंदू समाज और उसकी पहचान भी नहीं बचेगी। भारत की पहचान राम से और हिंदू की पहचान भी राम से है और अयोध्या इन्हीं राम की जन्मस्थली है। सवाल एक मंदिर का नहीं है, बल्कि राम की जन्मभूमि का है।

ये भी पढ़े: अयोध्या फैसले को लेकर बढ़ी हलचल, मुख्य सचिव और डीजीपी संतों के साथ करेंगे बैठक

गौरतलब है कि इधर मंदिर निर्माण के लिए संघ और उसके दूसरे संगठन जमीनी स्तर पर काम कर रहे थे। उधर सरकार में शामिल बीजेपी राजनीतिक रणक्षेत्र में इस मुद्दे को धार दे दी। उस दौर के लगातार बदलते राजनीतिक घटनाक्रमों के बीच लालकृष्ण आडवाणी सबसे अहम राजनीतिक शख्सीयत बन चुके थे। सात अगस्त, 1990 को पीएम वी.पी. सिंह ने मंडल कमीशन को लागू करने की घोषणा कर दी और पूरे देशभर में इसके समर्थन और विरोध में आंदोलन होने लगे।

इन सबके बीच बीजेपी और संघ परिवार राम मंदिर निर्माण के लिए जनमत बनाने के प्रयासों में जुट गया। वहीं मंडल की काट और राम मंदिर निर्माण को लेकर समर्थन जुटाने के लिए आडवाणी ने 25 सितंबर, 1990 को गुजरात के सोमनाथ से रथयात्रा शुरू की, जिसे विभिन्न राज्यों से होते हुए 30 अक्तूबर को अयोध्या पहुंचना था। आडवाणी वहां कारसेवा में शामिल होने वाले थे।

ये भी पढ़े: नई दिल्ली: अगर जलाया कूड़ा तो भरने होंगे लाखों रूपये- सुप्रीम कोर्ट

बता दें कि यह रथयात्रा अयोध्या तक नहीं पहुंच पाई। बिहार में पहुंचने के बाद आडवाणी को तत्कालीन सीएम लालू प्रसाद यादव के आदेश पर 23 अक्तूबर को समस्तीपुर में गिरफ्तार कर लिया गया। इस बीच अयोध्या में 21 अक्तूबर से कारसेवक इकट्ठा होने लगे। 30 तारीख को आचार्य वामदेव, महंत नृत्य गोपालदास और अशोक सिंहल की अगुवाई में कारसेवक विवादित स्थल की ओर कूच करने लगे।

उन्हें बाबरी मस्जिद के पास पहुंचने से रोकने के लिए तत्काल सीएम मुलायम सिंह यादव ने गोलीयां चलवा दी। कई कारसेवक मारे गये। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, कोठारी बंधुओं ने बाबरी मस्जिद पर भगवा झंडा फहरा दिया था। दो नवंबर को कारसेवकों ने फिर विवादित स्थल की ओर पहुंचने की कोशिश की लेकिन इस बार फिर सरकार ने गोली चलवाई और कई कारसेवक मारे गए।

इसी घटनाक्रम के बीच में बीजेपी ने केंद्र के सरकार वी.पी. सिंह से अपना समर्थन वापस ले लिया। सरकार गिर गई। फिर कांग्रेस के समर्थन से दस नवंबर, 1990 को चंद्रशेखर पीएम बने। 1991 में मध्यावधि चुनाव हुए। 21 जून को नरसिंह राव प्रधानमंत्री बने। इस चुनाव में बीजेपी 85 से 120 सीटों पर पहुंच गई।

वहीं यूपी में बीजेपी ने विधानसभा चुनावों में भी जीत हासिल की। बता दें कि राम मंदिर निर्माण का आंदोलन दिनोदिन बढ़ता ही जा रहा था। कल्याण सिंह के सीएम बनने से स्थितियां थोड़ी अनुकूल हो गई थीं।

राम मंदिर से लगी 2.77 एकड़ जमीन को राज्य सरकार ने अधिगृहित किया था। वहीं इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में इसको चुनौती दी गई थी, जिसकी सुनवाई 4 नवंबर, 1992 को पूरी हो गई। इस फैसले के लिए चार दिसंबर की तिथि तय हुई थी। इस बीच विहिप ने 6 दिसंबर को कारसेवा का आह्वान किया था। विहिप के तत्कालीन संयुक्त महामंत्री चंपत राय ने 2009 के अपने एक इंटरव्यू में कहा था कि, ‘पहले दो न्यायाधीशों ने फैसला लिख दिया, लेकिन तीसरे जज ने इसे 11 दिसंबर के लिए टाल दिया। यह तारीख कारसेवा के लिए निर्धारित तिथि के बाद पड़ रही थी। इससे आक्रोशित होकर कारसेवक अपना धैर्य खो बैठे।

उस दिन वहां लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी जैसे बीजेपी के कई कदावर नेता और विहिप के कई प्रमुख लोग भी अयोध्या में मौजूद थे। साथ ही साध्वी ऋतंभरा और उमा भारती जैसी हिंदू नेत्रियां भी उस दिन अयोध्या में मौजूद थीं।

स्पष्ट आवाज़ पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूबफेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करें. साथ ही फोन पर खबरे पढ़ने व देखने के लिए Play Store पर हमारा एप्प Spasht Awaz डाउनलोड करें।

The post जब सोमनाथ से आयोध्या तक लालकृष्ण आडवाणी ने निकाली थी रथयात्रा तो…! appeared first on Spasht Awaz.