X Close
X
8299323179

जानिए मूडीज ने क्यों दी भारत को नेगेटिव रेटिंग!


Lucknow:

मोदी सरकार ने मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस के भारत की रेटिंग का परिदृश्य स्थिर से घटाकर नकारात्मक करने पर शुक्रवार को कड़ी प्रतिक्रिया दी है। वहीं वित्त मंत्रालय ने कहा है कि, अर्थव्यवस्था के बुनियादी कारक मजबूत बने रहेंगे और गवर्नमेंट की ओर से किए गए उपायों से निवेश में तेजी की संभावना है।

ये भी पढ़े: 3 साल के बाद आज पता चला क्यों हुई थी देश में नोटबंदी!

कम रहेगा आर्थिक विकास-

आपको बता दें कि एजेंसी ने भारत के लिए बीएए2 विदेशी-मुद्रा और स्थानीय मुद्रा रेटिंग की पुष्टि की है। मूडीज ने कहा कि धीमी अर्थव्यवस्था को लेकर जोखिम और बढ़ रहा है। वहीं रेटिंग एजेंसी ने कहा कि पिछले सालों की तुलना करें तो भविष्य में आर्थिक विकास भौतिक रूप से कम रहेगा। इतना ही नहीं, मूडीज ने यह भी कहा कि आर्थिक मंदी को लेकर चिंता काफी लंबे वक्त तक रहेंगी और कर्ज और भी बढ़ेगा। बता दें कि कारोबर में निवेश और ग्रोथ बढ़ाने के लिए और सुधारों और टैक्स बेस व्यापक करने की गुंजाइश काफी कम हो गई है।

गवर्नमेंट ने दी बयान-

इस पर केंद्र सरकार ने कहा है कि, देश की अर्थव्यवस्था की बुनियाद काफी मजबूत है और हाल ही में किए गए सुधारों की घोषणा निवेश को प्रोत्साहित करेगी। वहीं इस संदर्भ में वित्त मंत्रालय (निर्मला सीतारमण ) ने कहा कि भारत सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्थाओं में से एक है।

ये भी पढ़े: बढ़ते दामों पर अंकुश लगाने के लिए भारत ने इन देशों से मंगाया 2500 टन प्याज

वहीं मंत्रालय ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के ताजा विश्व इकोनॉमिक आउटलुक में भारत की वुद्धि दर 6.2 % बताई गई थी और उससे अगले साल के लिए 7 % रहने की बात कही थी। वहीं आईएमएफ और अन्य संगठनों के अनुसार, भारत की विकास दर अपरिवर्तित है।

मूडीज ने घटाया था GDP का अनुमान-

बता दें कि अक्तूबर में मूडीज ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए भारत की GDP का अनुमान भी घटा दिया था। एजेंसी के मुताबिक, GDP 5.8 % होगी, जो भारतीय रिजर्व बैंक के अनुमान से भी कम है। पहले एजेंसी ने 6.8 % का अनुमान जताया था।

ये भी पढ़े: अमेरिका-चीन के वैश्विक वार के अंत से होगा भारत का मुनाफा!

लग सकता है बड़ा झटका-

विकास दर को घटाने के अनुमान से भारत सरकार की देश को 50 खरब इकोनॉमी बनाने की कवायद को भी झटका लग सकता है। अगर अर्थव्यवस्था में मंदी का दौर देखने को या फिर धीमी रफ्तार रहेगी तो इसका असर भविष्य में भी देखने को मिलेगा। फिलहाल देश में कई सेक्टरों में उत्पादन लगभग ठप है। ऐसा इसलिए क्योंकि लोग पुराने स्टॉक को भी नहीं खरीद रहे हैं। 50 खरब अर्थव्यवस्था बनाने के लिए विकास दर में तेजी रखने के लिए कोशिशों को जारी रखना होगा।

स्पष्ट आवाज़ पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूबफेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करें. साथ ही फोन पर खबरे पढ़ने व देखने के लिए Play Store पर हमारा एप्प Spasht Awaz डाउनलोड करें।

The post जानिए मूडीज ने क्यों दी भारत को नेगेटिव रेटिंग! appeared first on Spasht Awaz.